पाटीदार आरक्षण आंदोलन

Jump to navigation Jump to search
पाटीदार आरक्षण आंदोलन
पाटीदार अनामत आंदोलन
तिथि 22 जुलाई 2015-से जारी
स्थान गुजरात, भारत
Also known as पटेल अनामत आंदोलन
कारण पाटीदार समुदाय को अन्य पिछड़ा वर्ग में शामिल करवाने हेतु

जुलाई 2015 में शुरू, पाटीदार समुदाय के लोगों ने अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के दर्जे की मांग के लिए गुजरात राज्य भर में सार्वजनिक प्रदर्शनों को अंजाम दिया।[1]

पृष्ठभूमि

भारत में कुछ जातियों को अन्य पिछड़ी जातियों (ओबीसी) में सम्मलित करना एक सकारात्मक[कृपया उद्धरण जोड़ें] कदम है जो शिक्षा और सरकारी नौकरियों में आरक्षित कोटा प्रदान करता है। गुजरात में 27% सीटें अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 14% अनुसूचित जनजाति के लिए व 7% अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं।[2] सुप्रीम कोर्ट ने 1992 के फैसले में आरक्षण को 50% तक सीमित रखा है।[3]

1981 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) ने नेतृत्व में गुजरात के मुख्यमंत्री माधव सिंह सोलंकी की सरकार द्वारा बख्शी आयोग की सिफारिशों के आधार पर सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े जातियों (En:Socially and Economically Backward Casts)(SEBC) के लिए आरक्षण की शुरुआत की। इस कारण राज्य भर में आंदोलन व दंगे हुए जिसमें सौ से अधिक लोगों की मौत हुई। सोलंकी ने 1985 में इस्तीफा दे दिया था, लेकिन बाद में 182 में से 149 सीटें जीतने पर सत्ता में लौट आये।

उन्हें क्षत्रिय, हरिजन, आदिवासी और मुसलमान द्वारा समर्थित किया गया; जिसे सामूहिक रूप से खाम सिद्धांत (Ksatriya, Harijan, Adiwasi, Mulsim) कहा गया। परिणाम स्वरुप पाटीदार सम्प्रदाय ने अपना प्रभुत्व खो दिया और कांग्रेस से विमुख हो गए। SEBC सूची में 81 समुदाय सम्मलित थे जो 2014 तक बढ़कर 146 हो गए। [1][3] इस आंदोलन ने राजस्थान के गुर्जर आंदोलन से प्रेरणा ली जो मई 2015 में समाप्त हो गया।[4][5][6]

आंदोलन

पाटीदार समुदाय के युवाओं ने, जिन्हें पटेल उपनाम से भी जाना जाता है, ने जुलाई 2015 से सार्वजानिक आंदोलन शुरू कर दिए। इन्हें सामुदायिक सेवा में लगे संगठन, सरदार पटेल सेवादल और अखिल भारतीय पाटीदार परामर्श समिति का समर्थन प्राप्त था। युवा सरकारी नौकरियों और शिक्षा में आरक्षण के लिए अपने समुदाय का नाम भी अन्य पिछड़ी जातियों में चाहते हैं।[7] युवाओं ने हार्दिक पटेल की अध्यक्षता में पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पास) का गठन किया। संगठन ने स्वयं को एक गैर राजनीतिक संगठन करार दिया।[8]लालजी पटेल की अध्यक्षता में सरदार पटेल ग्रुप (एसपीजी)सरदार पटेल सेवादल, के. डी. शेलडीया की अध्यक्षता में अखिल भारतीय पाटीदार परामर्श समिति(abpps), पाटीदार संकलन समिति और पाटीदार आरक्षण समिति भी इस आंदोलन में शामिल हैं।[9][10] हालाँकि चार प्रमुख पाटीदार संगठनों ने इस आंदोलन में भाग लेने से इंकार कर दिया[11] पर बाद में खोदलधम ट्रस्ट ने युवाओं और सरकार के बीच मध्यस्थ का कार्य करने की पेशकश की।[10][12]

सार्वजनिक प्रदर्शन 22 जुलाई को महेसाणा में आयोजित किया गया। 23 जुलाई 2015 को विसनगर में प्रदर्शन हिंसक हो गया, कुछ आंदोलनकारियों ने वाहनों में आग लगा दी और भारतीय जनता पार्टी के विधायक, ऋषिकेश पटेल के कार्यालय में तोड़फोड़ भी की।[13][14][15]28 जुलाई को विजापुर में और उसे बाद मेहसाणा में भी प्रदर्शन आयोजित किया गया।[14][16][17] प्रदर्शन के आदेश का पालन न करने पर पुलिस ने 152 व्यक्तियों के नाम दर्ज किये।[6] जुलाई 30 को लुनवदाओं (Lumavadaon) में प्रदर्शन आयोजित किया गया,[18]1 अगस्त को द्वारका जिले की देवभूमि में[19] 3 अगस्त को गांधीनगर, नवसारी में, जामनगर जिले के जामजोधपुर में, अमरेली जिले के हिम्मतनगर और बग्सर (Bagasara) में,[20][21][22]5 अगस्त को राजकोट में,[23] अमरेली में 10 अगस्त को,[24][25] 12 अगस्त को जूनागढ़ में; [26] 17 अगस्त को पेटलाद में [26] 17 अगस्त को सूरत में के. डी. शेलडीया की अध्यक्षता में हुए प्रदर्शन में लगभग 1 लाख से 4.5 लाख लोगों ने हिस्सा लिया।[15] शहर के हीरा और कपड़ा बाजार बंद रहे। कई स्कूलों और कॉलेजों में भी बंद कर दिया गया।[27][28] प्रदर्शनों को सुरेंद्रनगर, भरुच और वडोदरा में आयोजित किया गया।[29] [30][31]

अगले प्रमुख प्रदर्शन का 25 अगस्त को अहमदाबाद के जीएमडीसी मैदान में आयोजन किया गया।[32][33][34]अहमदाबाद में आरक्षण मांग रहा पटेल समुदाय हिंसक हो गया। इस महारैली में भाग लेने के लिए पटेल समुदाय के लगभग 18 लाख लोग अहमदाबाद में थे। आंदोलनकारियों के नेता हार्दिक पटेल को पुलिस ने हिरासत में ले लेने के बाद जब माहौल बिगड़ता देखा तो घंटेभर में उसे छोड़ दिया, लेकिन तब तक पटेल समाज के लोग अहमदाबाद व सूरत समेत 12 से ज्यादा शहरों में सड़कों पर उतर आए। तोड़फोड़ व आगजनी भी हुई। सवा सौ गाड़ियों में आग लगा दी व 16 थाने जला दिए गए। ट्रेन की पटरियाँ भी उखाड़ दी गयीं। रात से अहमदाबाद, सूरत, मेहसाणा, ऊंझा, विसनगर में कर्फ्यू लगा दिया गया। 2002 में हुए गुजरात दंगों के बाद ये दूसरा मौका है जब इस प्रकार की हिंसा हुई है। 26 अगस्त को गुजरात बंद का ऐलान किया गया। हार्दिक पटेल, लालजी पटेल और के. डी. शेलडीया जैसे आंदोलनकारीओ की और से गुजरात बंद की घोषणा की गयी है। स्कूल और कॉलेज की छुट्टी कर अनेक जिलों की इंटरनेट सेवा बंद कर दी गयी है। अनेक रेलवे स्टेशनों और एयरपोर्ट्स पर लोग फसे हुए हैं।[35]

धारी से बीजेपी के एमएलए नलिन कोटडिया ने इस आंदोलन का समर्थन किया।[36] सोशल मीडिया ने इस विरोध को शीघ्रता से राज्यभर में फ़ैलाने में सहायता की।[37][33]

प्रतिक्रिया

सामाजिक

कई अन्य समुदायों के नेताओं जैसे: ब्राह्मण, ठाकुर, वैष्णव और रघुवंशी आदि ने भी समान लाइनों में आरक्षण की मांग कर आंदोलन शुरू कर दिए।[38][39][40]

पहले से ही अन्य पिछड़ा वर्ग का दर्जा प्राप्त समुदाय के नेताओं ने आंदोलन का विरोध किया।[41][42][43] गुजरात क्षत्रिय ठाकुर सेना के साथ-साथ अन्य पिछड़ा वर्ग एकता मंच ने अहमदाबाद और राजकोट में 23 अगस्त को हजारों लोगों के साथ एक दूसरे के विरुद्ध जवाबी विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया।[44][45][46][47]

राजनैतिक

11 अगस्त 2015 को नितिनभाई पटेल की अध्यक्षता में गुजरात की मुख्यमंत्री, आनंदीबेन पटेल, ने समुदाय से बात करने व सरकार को रिपोर्ट सौंपने के एक सात सदस्यीय पैनल का गठन किया।[7]17 अगस्त 2015 को एसपीजी के साथ वार्ता की गयी पर पास (PAAS) ने वार्ता में भाग नहीं लिया।[9][15][28][48][49] 21 व 23 अगस्त को सरकार ने कानूनी और संवैधानिक सीमाओं पर बहस करते हुए अग्रणी गुजराती समाचार पत्रों में एक लंबा विज्ञापन प्रकाशित किया।[29][46]

सन्दर्भ

  1. Langa, Mahesh (27 February 2015). "Patels' quota demand poses challenge to Anandiben". द हिन्दू. अभिगमन तिथि 18 August 2015. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "Langa 2015" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है
  2. "Gujarat says no to reservation in GNLU - Latest News & Updates at Daily News & Analysis". dna. 2012-07-06. अभिगमन तिथि 2015-08-24.
  3. "#dnaEdit: Demanding the sky". DNA. 24 August 2015. अभिगमन तिथि 24 August 2015.
  4. "Agitation for reservation by Patel community puts BJP government in bind". timesofindia-economictimes. 5 August 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  5. "Gujjar agitation called off, Rajasthan govt agrees to quota in jobs". http://www.hindustantimes.com/. 29 May 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015. |website= में बाहरी कड़ी (मदद)
  6. Umarji, Vinay (22 August 2015). "Vinay Umarji: The Patidar threat to BJP". Business Standard Column. अभिगमन तिथि 23 August 2015.
  7. "Gujarat CM Anandiben Patels' demand for OBC status: Govt forms 7-member panel". द इंडियन एक्सप्रेस. 14 August 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  8. "Why are crowds in Gujarat lining up to listen to Hardik Patel, 21". द इंडियन एक्सप्रेस. 18 August 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  9. "Division in Patidar leadership shows". Ahmedabad Mirror. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  10. DeshGujarat (30 July 2015). "Four top Patidar organizations say they are not linked to reservation agitation". DeshGujarat. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  11. "Shock for Patidar reservation movement in Gujarat 438151". Nai Duniya. 30 July 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  12. TNN (13 August 2015). "Patel stir: Khodaldham Trust offers to mediate". The Times of India. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  13. Dave, Kapil (22 July 2015). "Patidars want OBC status". The Times of India. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  14. "Violence in Mehsana at rally seeking quota for Patidars". द इंडियन एक्सप्रेस. 24 July 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  15. "'All is not well' for Patidar Anamat Aandolan; no official permission of mega rally as yet, SPG leaders also allegedly peeved". WebIndia123. 18 August 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  16. Dave, Kapil (29 July 2015). "Patels take out peaceful rally at Vijapur". The Times of India. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  17. "Patidars' stir over OBC status: CM Anandiben Patel calls for unity, invokes Sardar Patel". द इंडियन एक्सप्रेस. 2 August 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  18. TNN (31 July 2015). "Lunawada Patidars too rally for OBC reservation". The Times of India. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  19. "Demand for OBC status: Patidars' stir spreads to Saurashtra". द इंडियन एक्सप्रेस. 1 August 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  20. "Patidars take out rally in Rajkot, demand reservation for economically backward Patel families". द इंडियन एक्सप्रेस. 2015-08-05. अभिगमन तिथि 2015-08-23.
  21. India, Press Trust of (2 August 2015). "Gujarat's Patel community to hit the streets for OBC quota". Business Standard News. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  22. "Agitation for OBC status: Patidars take out a silent march in capital to send the message across". द इंडियन एक्सप्रेस. 4 August 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  23. "Patidars take out rally in Rajkot, demand reservation for economically backward Patel families". द इंडियन एक्सप्रेस. 5 August 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  24. "Gujarat: Patidars march on Amreli streets, threaten to fight for OBC status in Gandhinagar". द इंडियन एक्सप्रेस. 10 August 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  25. "Patels Not Ready for Reservation Talks Without Written Invite from Gujarat". NDTV.com. 8 August 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  26. PTI (15 February 1977). "Gordhan Patel, Ex-VC of Amul Dairy dies of heart attack during Patel rally". दि इकॉनोमिक टाइम्स. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  27. "Life in Surat hit as 4.5 lakh Patidars take out rally for OBC status, quota". द इंडियन एक्सप्रेस. 18 August 2015. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  28. DeshGujarat (17 August 2015). "Patidar outfits hold another pro-reservation rally, this time in Surat". DeshGujarat. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  29. "Ahead of Patidar rally, Gujarat government puts forward legal and constitutional arguments". द इंडियन एक्सप्रेस. 21 August 2015. अभिगमन तिथि 21 August 2015.
  30. PTI (21 August 2015). "Quota Row: Gujarat Mulls Scheme for General Category Students". The New Indian Express. अभिगमन तिथि 21 August 2015.
  31. Tere, Tushar (21 August 2015). "Massive Patidar rally today". The Times of India. अभिगमन तिथि 21 August 2015.
  32. "Quota agitation: Police allow Patidar rally on Ahmedabad's GMDC ground". द इंडियन एक्सप्रेस. 21 August 2015. अभिगमन तिथि 21 August 2015.
  33. "Stir over obc status: Govt proposes talks, Hardik Patel plays hard ball". द इंडियन एक्सप्रेस. 23 August 2015. अभिगमन तिथि 23 August 2015.
  34. "OBC quota stir: Patidars gear up for show of strength at Ahmedabad rally". Business Standard News. 24 August 2015. अभिगमन तिथि 24 August 2015.
  35. "हिंसक हुआ पटेल आंदोलन , अहमदाबाद सहित गुजरात के कई जिलों में लगा कर्फ्यू". दैनिक भास्कर. 26 अगस्त 2015. नामालूम प्राचल |access date= की उपेक्षा की गयी (|access-date= सुझावित है) (मदद)
  36. TNN (17 August 2015). "Dhari BJP MLA declares support for Patidar cause". The Times of India. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  37. "Patidar reservation: Social media spreading Sardar Patel movement like wild fire - Latest News & Updates at Daily News & Analysis". dna. 22 August 2015. अभिगमन तिथि 23 August 2015.
  38. "Why Brahmins in Gujarat are demanding reservation in jobs, education". इंडिया टुडे. 2015-08-19. अभिगमन तिथि 2015-08-24.
  39. DeshGujarat (15 August 2015). "Behind the scene plot is to destabilise government: Rupala". DeshGujarat. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  40. DeshGujarat (10 August 2015). "Brahmins, Raghuvanshis join Patels in reservation rally in Amreli". DeshGujarat. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  41. Dave, Kapil (12 August 2015). "Aug 25 reserved for rival quota rallies". The Times of India. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  42. "Patel worry for Gujarat CM". The Telegraph. अभिगमन तिथि 18 August 2015.
  43. "Showdown countdown - 3 lakh Patidars: Epic quota quorum". The Times of India. 21 August 2015. अभिगमन तिथि 21 August 2015.
  44. "OBCs threaten to 'uproot' Gujarat government if Patels given reservation". द इंडियन एक्सप्रेस. 23 August 2015. अभिगमन तिथि 23 August 2015.
  45. "OBC Ekta Manch holds Maha-dharna, says – sharing of 27% quota with Patels unacceptable". DeshGujarat. 23 August 2015. अभिगमन तिथि 23 August 2015.
  46. Bureau, Focus News (23 August 2015). "Gujarat CM Says No To Patel Reservation, Community Firm On Holding Rally". Focus News. अभिगमन तिथि 23 August 2015.
  47. "OBCs rally on Aug 23 to protest Patel reservation demand". Business Standard News. 20 August 2015. अभिगमन तिथि 23 August 2015. |first1= missing |last1= in Authors list (मदद)
  48. "Agitation for OBc status: Patels dub first talk with govt a 'failure'". द इंडियन एक्सप्रेस. 18 August 2015. अभिगमन तिथि 21 August 2015.
  49. Reporters, BS (17 August 2015). "Gujarat govt holds talks with Patidars, others over OBC status demand". Business Standard News. अभिगमन तिथि 18 August 2015.

बाहरी कड़ियाँ

The article is a derivative under the Creative Commons Attribution-ShareAlike License. A link to the original article can be found here and attribution parties here. By using this site, you agree to the Terms of Use. Gpedia Ⓡ is a registered trademark of the Cyberajah Pty Ltd.